स्वीडन में कुरान जलाए जाने से दुनिया भर में उबाल, तुर्की से लेकर पाकिस्तान आग बबूला

किसी भी देश मे किसी चीज का विरोध प्रदर्शन होना आम बात है लेकिन स्वीडन में हाल ही हुये विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई एक घटना का आज के समय मे पूरी दुनिया विरोध कर रही है ।

दरअसल स्वीडन और फिनलैंड काफी समय से नाटो में शामिल होना चाह रहे थे लेकिन तुर्की उनकी इस मांग विरोध काफी समय से करता आ रहे है । पहले इस मांग को लेकर ज्यादा समर्थन स्वीडन की जनता का नहीं था पर जब से फ्रांस ने यूक्रेन पर हमला किया तब से स्वीडन और फिनलैंड नाटो में शामिल होने के लिये अपनी मांगे तेज कर चुके है ।

लेकिन इन दोनों देशों की नाटो की सदस्यता पाने के रास्ते मे तुर्की आ रहा है जो कि ये नहीं चाहता है कि स्वीडन और फिन लैंड को नाटो की सदस्यता प्राप्त हो ।

तुर्की की इसी बात का विरोध काफी समय से स्वीडन की आम जनता कर रही थी । लेकिन इस विरोध प्रदर्शन के बारे में जानकारी पूरी दुनिया तब हुई जब स्वीडन के दक्षिणपंथी के नेता रासमुस पैलुदान ने तुर्की दूतावास के सामने इस्लाम में सबसे ज़्यादा पूज्यनीय कुरान की एक कॉपी को जला दिया जिसके बाद पूरी दुनिया के इस्लामिक देश इसके विरोध में आ चुके है।इस घटना के बाद से लेकर इस्लाम देश स्वीडन के विरोध में आ चुके है ।

इस घटना को लेकर इस्लामिक देशों ने क्या बयान देते है चालिये जानते है –

सऊदी अरब 

सऊदी अरब ने इस स्वीडन में चरमपंथियों के द्वारा किये गये है इस कार्य को लेकर खूब निंदा की है ।सऊदी अरब के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करते हुये कहा है कि वो बातचीत, सहिष्णुता, सह-अस्तित्व की अहमियत को समझते हुए इसे बढ़ाने में यक़ीन रखता है और नफ़रत, अतिवाद को ख़ारिज करता है।

कतर

कतर ने स्वीडन में चरमपंथियों के द्वारा कुरान की प्रतिलिपि जलाये जाने वाली घटना का विरोध करते हुए अपना बयान जारी किया जिसमें कहा कि है- दुनिया के दो अरब मुसलमानों की भावनाओं को भड़काने और उन्हें उकसाने की बेहद गंभीर घटना है.’

विदेश मंत्रालय ने अंतराष्ट्रीय समुदाय से अपील की कि वो नफ़रत, भेदभाव, उकसावे की कार्रवाई, हिंसा की निंदा करने की ज़िम्मेदारी लें।

पाकिस्तान

पाकिस्तान ने स्वीडन में चरमपंथियों के द्वारा कुरान की प्रतिलिपि जलाये जाने वाली घटना का पुरजोर विरोध करते हुये कहा है कि इस तरह की हरकतें किसी भी तरह से अभिव्यक्ति की आज़ादी या जायज़ हरकत नहीं ठहराई जा सकती हैं. इस्लाम शांति और मुसलमानों का धर्म है, जो सभी धर्मों का सम्मान करता है. इस सिद्धांत का सभी को सम्मान करना चाहिए।

कुवैत

कुवैत ने स्वीडन में चरमपंथियों के द्वारा कुरान की प्रतिलिपि जलाये जाने वाली घटना की निंदा करते हुये कहा कि इस घटना से अरबों मुस्लिमों का दिल दुखा है।

ईरान

ईरान ने इस घटना की निंदा करते हुये कहा कि कुछ यूरोपी देश अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर हमेशा इस्लाम का अपमान हमेशा करते रहते है।

तालिबान

तालिबान ने स्वीडन में चरमपंथियों के द्वारा कुरान की प्रतिलिपि जलाये जाने वाली घटना की निंदा करते हुये कहा कि स्वीडन में हुई इस घटना को वो पुरजोर विरोध करते है, तालिबान ने बयान में आगे कहा कि वो चाहते है कि इस मामले में दोषी व्यक्ति को सजा दी जाये एवं भविष्य में ऐसी कोई घटना दोबारा ना हो इसका वचन भी दे ।

Leave a Comment