बीमा के बारे में कुछ जरुरी बातें जो आपको जानना चाहिए

बीमा (इंश्योरेंस) उस साधन को कहते हैं जिसके द्वारा कुछ शुल्क (जिसे प्रीमियम कहते हैं) देकर हानि का जोखिम दूसरे पक्ष (बीमाकार या बीमाकर्ता) पर डाला जा सकता है। 

बीमा एक सुविधा है जो किसी व्यक्ति या व्यापार को असुविधा या नुकसान के कीमत के लिए सम्बंधित समूह से पेशेवर करता है। 

जिस पक्ष का जोखिम बीमाकर पर डाला जाता है उसे ‘बीमाकृत’ कहते हैं। बीमाकार आमतौर पर एक कंपनी होती है जो बीमाकृत के हानि या क्षति को बांटने को तैयार रहती है और ऐसा करने में वह समर्थ होती है।

बीमा वास्तव में बीमाकर्ता और बीमाकृत के बीच अनुबंध है जिसमें बीमाकर्ता बीमाकृत से एक निश्चित रकम (प्रीमियम) के बदले किसी निश्चित घटना के घटित होने (जैसे कि एक निश्चित आयु की समाप्ति या मृत्यु की स्थिति में) पर एक निश्चित रकम देता है या फिर बीमाकृत की जोखिम से होने वाले वास्तविक हानि की क्षतिपूर्ति करता है।

बीमा भविष्य में किसी नुकसान की आशंका से निपटने का प्रभावी हथियार है. हमें नहीं पता कि कल क्या होगा, इसलिए हम बीमा पॉलिसी के जरिये भविष्य में संभावित नुकसान की भरपाई की कोशिश करते हैं।

यह एक प्रकार का सामान्य संरक्षण हो सकता है, जैसे कि संपत्ति संरक्षण, स्वास्थ्य सुरक्षा, व्यापार बीमा आदि।

बीमा कितने प्रकार के होते हैं? 

आम तौर पर बीमा दो प्रकार के होते हैं:

जीवन बीमा (Life Insurance)

साधारण बीमा (General Insurance)

बीमा का मुख्य उद्देश्य क्या है?

बीमा का मुख्य उद्देश्य किसी विशेष जोखिम के कारण होने वाली हानि से उन्हें सुरक्षा प्रदान करना है।

बीमा के लाभ क्या है?

इससे दुर्घटना या जोखिम की स्थिति को कवर किया जाता है। उदहारण के लिए मान लीजिए अगर किसी व्यक्ति की मृत्यु होती है तो स्थिति में नॉमिनी को बीमा राशि दी जाती है जिससे वह बाकी की जिंदगी अच्छी तरह से काट सके।

Leave a Comment